अपराधसोशल मीडिया

100 करोड़ की वसूली:मुंबई पहुंचकर सबसे पहले परमबीर सिंह से इन 10 सवालों के जवाब मांगेगी CBI, अनिल देशमुख सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैं

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगे 100 करोड़ की वसूली का टारगेट देने के आरोपों की जांच में CBI एक्टिव हो गई है। CBI की टीम आज मुंबई पहुंचकर आरोप लगाने वाले पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह से पूछताछ करेगी। बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोमवार को इस मामले की CBI जांच के आदेश दिए थे। इसके कुछ ही घंटों बाद देशमुख ने इस्तीफा दे दिया था। सोमवार देर रात ही उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील अभिषेक मनु सिंघवी से मुलाकात की है। माना जा रहा है कि CBI जांच के खिलाफ वे सुप्रीम कोर्ट में अपील कर सकते हैं।

ACB संभाल चुके अभिषेक दुलार की अगुआई में पहुंचेगी CBI टीम
CBI की एक टीम कुछ ही देर में मुंबई पहुंचने वाली है। इस टीम को हिमाचल प्रदेश कैडर के 2006 बैच के IPS अभिषेक दुलार हेड कर रहे हैं। माना जा रहा है कि टीम सबसे पहले परमबीर सिंह का बयान दर्ज करेगी। IIT दिल्ली से इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग करने वाले दुलार स्टेट विजलेंस और एंटी करप्शन ब्यूरो को भी संभाल चुके हैं। वे शिमला, मंडी और कुल्लू के पुलिस अधीक्षक रहे हैं। विजलेंस डिपार्टमेंट में उनके काम को देखते हुए ही उन्हें इस केस की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

CBI परमबीर से ये 10 सवाल कर सकती है

1. आपको कब और कैसे 100 करोड़ की वसूली के बारे में जानकारी मिली, इसे डिटेल में बताएं?

2. सचिन वझे ने जब इस मामले का खुलासा किया गया तो आपने सबसे पहला कदम क्या उठाया?

3. आपने इस वसूली मामले को रोकने का प्रयास किया या नहीं? आपने कोई भी FIR या शिकायत क्यों नहीं दर्ज करवाई?

4. 16 साल तक सस्पेंड रहने पर सचिन वझे को किस आधार पर फिर से बहाल किया गया? इसमें आपकी क्या भूमिका थी?

5. क्राइम ब्रांच में कई सीनियर होने के बावजूद उन्हें क्यों CIU का हेड बनाया गया?

6. प्रोटोकॉल नियम को दरकिनार करते हुए वझे सीधे आपको क्यों रिपोर्ट करते थे?

7. आपने उनके ज्वाइन करने के तुरंत बाद लगभग सभी बड़े महत्वपूर्ण केस उन्हें सौंपे?

8. एक असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर होने के बावजूद वझे के रसूख पर आपको कभी संदेह नहीं हुआ?

9. एंटीलिया केस की जानकारी मिलने के बाद ज्यूरिडिक्शन नहीं होने के बावजूद सचिन वझे को इसकी जांच क्यों सौंपी गई?

10. सचिन वझे को स्पेशल पावर देने के लिए क्या कभी किसी पॉलिटिकल व्यक्ति ने दबाव बनाया था?

दिलीप पाटिल आज ग्रहण करेंगे पदभार

अनिल देशमुख की जगह अब दिलीप वलसे पाटिल राज्य के नए गृह मंत्री होंगे। कुछ ही देर में वे गृह मंत्री का पदभार संभालेंगे। सोमवार शाम को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर देशमुख का इस्तीफा मंजूर करने की सिफारिश की थी, जिसे राज्यपाल ने मंजूर कर लिया है।

NCP नहीं चाहती थी देशमुख का इस्तीफा
देशमुख के इस्तीफे के बाद महाविकास अघाड़ी सरकार में तालमेल की कमी से सवाल उठ रहे हैं। असल में कहा जा रहा है कि शिवसेना देशमुख का इस्तीफा बहुत पहले से चाह रही थी, लेकिन NCP के दबाव में CM कोई कठोर कदम नहीं उठा पा रहे थे। हालांकि, एक रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठित किए जाने के बाद से माना जा रहा था कि शिवसेना देशमुख का इस्तीफा चाहती है।

उधर, NCP देशमुख के खिलाफ तत्काल एक्शन की जगह उनके मंत्रालय को बदलना चाहती थी, लेकिन हाई कोर्ट के CBI जांच के आदेश के बाद CM ठाकरे ने जजमेंट की कॉपी मंगवाई और यह संकेत दिया कि वे जल्द इस मामले में कार्रवाई कर सकते है। इसके बाद ही माना जा रहा है कि देशमुख ने इस्तीफा दिया है।

गठबंधन में शामिल कांग्रेस भी नाराज

महा विकास अघाड़ी में सहयोगी कांग्रेस भी राजनीतिक घमासान और खुद को तरजीह न मिलने से नाखुश है। एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने पूरे घटनाक्रम पर कहा, ‘यह तीन पार्टियों वाली सरकार है। जो भी होता है, सभी सहयोगियों को उसके परिणाम भुगतने पड़ेंगे। हालांकि, वझे-देशमुख विवाद को NCP का मामला माना जा रहा है। NCP ने CM से विचार-विमर्श किया क्योंकि उन्हें करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हमारी राय जानने की जहमत नहीं उठाई। अगर यह एक राजनीतिक लड़ाई है तो तीनों पार्टियों को साथ मिलकर लड़ना होगा। देशमुख के इस्तीफे से MVA की समस्याएं खत्म होना मुश्किल है, बल्कि ये और बढ़ेंगी।’

Bol Bharat

Bol Bharat is your news, entertainment, music fashion website. We provide you with the latest breaking news and videos straight from the entertainment industry.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button